कोरबा। लगातार मौसम के करवट लेने से भूमि में उष्मा लगातार उत्पन्न हो रही है। जिससें की भू-तल के जीव-जंतु भी भूमि की उष्मा से बाहर निकलते जा रहे। गौरतलब है कि कोरबा जिला पूर्व से ही नागलोक के नाम से जाना जाता है। यही वजह है कि क्षेत्र के स्नेक केचर भी अपने कार्यो के प्रति सजग है। अभी आलम यह है कि किसी के भी घरों में सांप निकल जाए तो लोग फौरन स्नेक केचर को बुलाकर रेस्क्यू कराने में सफल रहते है। और यह भी काबिलें तारीफ है कि क्षेत्र के स्नेक रेस्क्यू टीम काफी सजग है। लोगो के बुलाने पर टीम अपनी मुस्तैदी दिखाते हुए सफलतापूर्वक सांप को पकड़कर जंगलों में छोड़ने में सफल भी रहते है। आज ऐसी ही मामला जिलें के मुखिया के निवास पर शाम को घटित हुआ। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल के निवास स्थान में एक सांप घुस आया जहाॅं वहां के काम करने वालो ने देख लिया। जिसके बाद कलेक्टर निवास पर कर्मचारियों के बीच हड़कंप सा मच गया कारण यह था कि समीप में ही बच्चे खेल ही रहें थे। फौरन द्वार प्रहरी सिपाही ने बिना देरी किए स्नेक रेस्क्यू टीम के प्रमुख जितेंद्र सारथी को इसकी जानकारी दी। इसके बाद जितेन्द्र सारथी कुछ ही समय में कलेक्टर निवास पहुंच कर किचन के समीप लगे पानी टंकी के नीचे साॅंप के घुसने की बात कही। टंकी को खाली कराकर धमना सांप को निकाला गया। स्नेक केचर ने बताया कि कलेक्टर निवास में गत वर्ष भी आधा दर्जन से अधिक सांपो को रेस्क्यू किया जा चुका है। इस वर्ष यह पहला रेस्क्यू है।

error: Content is protected !!