बयानों से चीन सरकार है बहुत नाराज, बताया ‘एक चीन की नीति’ का उल्लंघन
बीजिंग।
अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन से उसकी इस महीने होने वाली बैठक में ताइवान को बुलाए जाने के अनुरोध पर भड़के चीन ने सोमवार को इस अपील की निंदा की। ताइवान को चीन अपने देश का हिस्सा मानता है। ब्लिंकन द्वारा शुक्रवार को जारी बयान में वैसी ही अपील की गयी थी, जैसे इस महीने लंदन में जी7 के विदेश मंत्रियों ने संयुक्त अपील के जरिए की थी। इन बयानों से चीन की कम्युनिस्ट सरकार बहुत नाराज है।
चीन सरकार का मानना है कि ताइवान उसका हिस्सा है और उसे स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में विदेशों से संबंध रखने और वैश्विक संगठनों का हिस्सा बनने का अधिकार नहीं है। चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि ब्लिंकन की अपील ‘‘एक चीन की नीति” और अमेरिका-चीन संयुक्त घोषणापत्र का ‘‘गंभीर उल्लंघन है।” उन्होंने कहा, ‘‘चीन इसकी कड़ाई से भर्त्सना करता है और इसे खारिज करता है।” गृह युद्ध के बाद 1949 में ताइवान चीन से अलग हो गया था। दोनों देशों के बीच व्यापार संबंध बहुत अच्छे हैं, लेकिन कोई आधिकारिक संबंध नहीं है।

error: Content is protected !!