September 29, 2021

चूड़ी जुड़ाई मज़दूरों को न्याय दिलाने के लिए श्रमिक नेता रामदास मानव ने सौंपा ज्ञापन ।

देवाशीष शर्मा/ मयंक शर्मा

फ़िरोज़ाबाद :- सुहागनगरी के नाम से पूरे विश्व में विख्यात फिरोजाबाद में आज अपनी ही बदहाली के आंसू बहा रहा है कांच का मजदूर क्योंकि यहां मजदूर मजबूर बना हुआ है साहब मजदूर को उसकी मजदूरी भी नहीं मिल पाती तो ऐसे में शासन प्रशासन द्वारा जारी की गई सुविधाएं कैसे मिलती होंगी इसका अंदाजा भी आपने लगा लिया होगा क्योंकि लगातार हमने आपको अनगिनत खबरें दिखाई हैं कि फिरोजाबाद का मजदूर आज भी मजबूर बना हुआ है और कोई भी इसकी सुनने और समझने वाला नहीं है आज एक बार फिर श्रमिक नेता रामदास मानव अपनी टीम के साथ जिला मुख्यालय जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे जहां उन्होंने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से सौंपा इस दौरान श्रमिक नेता ने क्या कुछ कहा आइए बिंदुवार आप को समझाते हैं ।

चूड़ी जुड़ाई मजदूरों के लिए दिनाँक 6 मई 2021 को जारी शासनादेश की विषंगतियो को दूर करा कर संसोधित शासनादेश जारी कराने के लिए काँच एवम चूड़ी मजदूर सभा फिरोजाबादका प्रतिनिधि मंडल महामंत्री रामदास मानव के नेतृत्व में मिला, जिला अधिकारी को मजदूरों की समस्याओ से आज जिला अधिकारी फिरोजाबाद श्री चन्द्र विजय सिंहको अवगत कराया तथा माननीय मुख्यमंत्री जी को संबोधित 8सूत्रीय ज्ञापन जिला अधिकारी को सौंपा

चूड़ी के100 तोड़ो को आठ घंटे में तैयार करने में निम्न पदों जुड़ाई में 7 कुशल श्रमिक, सदाई में 6कुशल श्रमिक, छटाई में तीन कुशल श्रमिक, चकलाई में दो अर्द्ध कुशल श्रमिक व तोड़े लाने ले जाने वाले दो अकुशल श्रमिक कुल20 मजदूर लगते हैं जिन्हें शासनादेश के अनुसार निम्नलिखित मजदूरों के अनुसार मज़दूरी निर्धारित की गई हैं

जो न्यूनतम वेतन से बहुत ही कम है जैसे जुड़ाई 7कुशल श्रमिक1300 रुपया प्रति सैकड़ा 1300÷7=185रुपया72 पैसा प्रति मजदूर सदाई में 6कुशल मजदूर850÷6 =141 रुपये66 पैसा छटाई में3 कुशल मजदूर500÷3 =166रुपया66पैसा प्रति मजदूर चकलाई मे दो अर्द्ध कुशल 200÷ 2=100 रुपये प्रति मजदूर लाने ले जाने वाले दो अकुशल मजदूर 150÷ 2=75 रुपया मजदूरी निर्धारित की गयी है जो न्यूनतम वेतन से बहुत कम है शासनादेश में50 रुपये वार्षिक बृद्धि असंगत है आज की महंगाई में10%वार्षिक वृद्धि होनी चाहिए।

2017 में जिलाधिकारी श्रीमती नेहा शर्मा ने मजदूरों की वास्तविक संख्या व श्रेणी के आँकलन हेतु शाशन को 15 मई2017 को पत्र लिखा मई2019 में तत्कालीन जिलाधिकारी श्रीमती शेल्वा कुमारी जे ने श्रम विभाग व प्रशासनिक अधिकारियों की संयुक्त टीम गठित करा कर सर्वे कराया जिसमे 18 मजदूर माने गए थे

12 नबम्बर1982 को जारी शासनादेश केआधार परवर्तमान सर्वे में 18 श्रमिक मानकर शासनादेश को संसोधित किया जाए

श्रम प्रवर्तन अधिकारियों के शासन से निलंबित अधिकारो को बहाल किया जाए जिससे श्रमिकों के हिट सुरक्षित रह सके

प्रतिनिधि मण्डल में सर्व श्री सौदान सिंह, वीरसिंह सुमन, मुकेश कुमार, शिवकुमार, दीपक कोहली, बलराम कोहली, हाकिम सिंह निमोरिया,राजेश कुमार, अशोक कुमार, रामदास मानव शामिल थे ।

error: Content is protected !!