August 2, 2021

महान नदी में पुल न होने से भारी समस्या क्षेत्र वासियों में भारी रोष

रिपोर्टर@ विकास कुमार यादव

बलरामपुर 19 जुन 2021-जिले के राजपुर विकासखण्ड के नरसिंहपुर मरकाडांड के बिच में महान नदी प्रवाहीत होती है, पुल न होने के वजह से राजपुर विकासखण्ड के बहुत से पंचायत बरसात में नदी नाले उफान में रहते हैं, पानी अत्यधिक होने के वजह से राजपुर विकासखण्ड से सिधे सिधे कट जायेंगे अगर किसी का तबीयत अचानक खराब हो जाता है तो लगभग 40से45 किलोमीटर लम्बी यात्रा कर के स्वास्थ्य केंद्र राजपुर पहुंचा जा सकता है

एंबुलेंस पहुंचने में भी काफी टाईम लगेगा-वो भी रास्ते इस कदर कि हिचकोले खाते खाते कमर में जोरदार दर्द होना शुरू हो जायेगा,

फाईल फोटो

पता नहीं शाशन प्रशासन इस ओर कब ध्यान देगा बिते वर्ष 2014 में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह का आगमन नरसिंहपुर में हुआ था और उन्होंने घोषणा किया था कि बहुत जल्द पुलिया का निर्माण कराया जाएगा वहीं जितने भी विधायक सामरी विधानसभा क्षेत्र के हुए हैं चाहे सिद्धनाथ पैकरा हो या फिलहाल संसदीय सचिव चिंतामणि महाराज सब से क्षेत्र वासियों ने प्रमुखता से समस्या से अवगत कराया है, आश्वासन तो मिला लेकिन कुछ नहीं हुआ, दरअसल सुरजपुर जिले के प्रतापपुर ब्लाक पुल बनने से बलरामपुर जिले के राजपुर विकासखण्ड से जुड़ जाता क्षेत्रवासियों को काफी राहत व फायदा होता और क्षेत्र का विकास होता, राजपुर विकासखण्ड के पंचायत चौरा, दुप्पी, मरकाडाड, नरसिंहपुर चिलमा परसागुडी,सहित सुरजपुर जिले के अनेक ग्राम पंचायत एक दुसरे से चैन कि तरह जुड जाते आस पास क्षेत्र में गन्ना कि फसल भी भारी क्षेत्रफल में लगाया जाता है, पुल न होने के वजह से लगभग 40से 50 किलोमीटर किसानों को घुम के गन्ना फैक्ट्री केरता में ले जाना पड़ता है

पुल न होने के वजह से पड़ोसी पंचायत से कट जाने से क्षेत्र वासियों में भारी दुःख है -क्षेत्रवासी नेताओं व अधिकारियों को कोशते नजर आते हैं और सचमुच पुलिया का निर्माण होने से क्षेत्र का विकास भी भरपूर होता और ग्रामीणों के चेहरे पे एक मन मोहक मुस्कान आ जाती
ग्रामीणों की मानें तो पुल न होने के वजह से कितना परेशानी होती है, बहुत ही दुख होता है कि आज भाजपा हो या कांग्रेस किसी सत्ता धारी पार्टी ने क्षेत्र वासियों को समस्या से निजात दिलाने में असमर्थ दिखाई दे रहे, चुनाव के समय तो लंबे लंबे वादे करते हैं वादे इतने कर देते हैं ,कि खुद ही भुल जाते हैं, और राजनीतिक दलों के बार बार भुलने कि आदत क्षेत्र वासियों को झेलना पड़ता है।

You may have missed

error: Content is protected !!