January 29, 2022

छुरा ब्लाक के पंचायत सचिव निकला करोड़ो का मालिक

छुरा–गरियाबंद जिला में करोड़ो की बेहिसाब  संपत्ति अर्जित करने वाले पंचायत  सचिव के खिलाफ श्रीमती पुष्पा ध्रुव महामन्त्री  जिला कांग्रेस कमेटी गरियाबंद ने आर्थीक अपराध अन्वेषण बयूरो प्रदेश कार्यालय में शिकायत कर आरोपी पंचायत सचिव के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग किये है।प्रदेश के मुख्य मंत्री ,पंचायत एवम ग्रामीण विकाश मंत्री व जिला की महिला कांग्रेस कमेटी की जिला महामंत्री ने शिकायत की है।

 जिला महिला कांग्रेस कमेटी की  महामंत्री  पुष्पा ध्रुव ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में  मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन,जीएसटी मंत्री निर्देशक राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण एंटी करप्शन ब्यूरो छत्तीसगढ़ को पत्र लिखकर जांच के कराने के मांग किये है।मामले में लेख करना विदित होगा कि काशीराम साहू ग्राम नावाडीह (अमेठी) के निवासी है ।तरीबन  20 वर्षो से  ग्राम पंचायत सचिव के पद पर नियुक्ति हुआ था ।इनकी पत्नी झरना साहू का नियुक्ति आयुर्वेदिक औषधालय सेवक (संविदा)में लगभग 4 से 5 साल पहले ही नियुक्ति हुआ था,। काशीराम का वेतन लगभग 30,000 है उनकी पत्नी का वेतन लगभग 10000 है लेकिन वर्तमान   में करोड़ों रुपए के आय से अधिक संपत्ति अर्जित करना जो की जांच का विषय है।

काशी राम साहू वार्ड क्रमांक 13 नगर पंचायत छुरा में लगभग एक करोड़ की लागत से स्वयम के रहने के लिए रिहाइशी मकान बनाया  है ।साथ ही ग्राम पंचायत लोहझर में लगभग 40 लाख की लागत मकान है, ग्राम ओनवा में कीमती जमीन है इसके अलावा ग्राम अमेठी नवाडीही साजापाली जैसे जगह में कई करोड़ की संपत्ति बनाया है जो कि सिर्फ पति-पत्नी के मासिक वेतन से इतनी बड़ी आय से अर्जित करना संभव ही नहीं होता जिसकी जांच पड़ताल किया जाना अति आवश्यक हो गया है काशी राम साहू अभी फिलहाल ग्राम पंचायत बोड़ाबांधा में पदस्थ साथ ही दो या तीन पंचायत में अस्थाई रूप से प्रभार में रह कर शासन की महती योजनाओ की पैसा को बंदरबांट कर शासन के पैसा से करोड़ो रुपये का अर्जित करना गलत है। 

 गरियाबंद जिले के आदिवासी ब्लॉक छुरा में कई ऐसे सरपंच  जो कम पढ़ा लिखे है और आरक्षण के अभाव में बन जाता है जिसका फायदा सचिव के रूप में लगातार ले रहे हैं कुछ सरपंचों से पता चला है कि छत्तीसगढ़ सरकार के महत्वकांक्षी योजना के तहत  पंचायतो में ज्यादा से ज्यादा पैसा काम कराने के लिए आता है और जैसे ही सचिव को पैसा आने का पता लगने के बाद ही उस पंचायत में प्रभारी सचिव बन कर पैसा के खत्म होते तक वहां पर पदस्थ रहते हैं जैसे ही पैसा खत्म होता है दूसरा ग्राम पंचायत की ओर आगे बढ़ता है लगभग 20 सालों में छुरा ब्लॉक के कई ग्राम पंचायतों में घूम घूम कर अस्थाई प्रभार के रूप में काम कर अपनी मकड़ी जाल में सरपंच को फंसा देते हैं ग्राम पंचायत खैरझीटी में पंचायत सचिव रहते हुए अपने परिवार जनों जैसे अपने भाई भीखम साहू एवं अपनी पत्नी के खाते में वर्ष 2016-17 एवं 18 में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया छुरा में ₹1000000(दस लाख) निजी खाता में सरकारी राशि को ट्रांसफर किया है जो कि जांच का विषय है काशी साहू उनकी पत्नी झरना साहू दोनों मिलकर कई ग्राम पंचायतों के विकास कार्य की राशि को भ्रष्टाचार कर आय से ज्यादा संपत्ति अर्जित कर अलग-अलग स्थानों पर निवेश कर रहे हैं तथा अपनी ससुराल वालों को भी मदद कर रहे हैं उनके नाम से भी जमीन खरीदी बिक्री किया गया है इनकी संपत्ति की जांच किया जाना अति आवश्यक है पंचायत सचिव साहू एक जगह ज्यादा दिन नहीं रहते हैं जहां पर निर्माण संबंधी कार्य पूरा होने पर अपना स्थानांतरण कराकर जहां ज्यादा राशि वाले पंचायत होते हैं वहां पर से चले जाते हैं जिससे प्रतीत होता है कि सिर्फ भ्रष्टाचार कर आय अर्जित करते रहना है ओर आय से अधिक ऐसे शासन के पैसे को चुना लगाने वालों के ऊपर कड़ी से कड़ी कार्यवाही के लिए आवेदन दिया गया है अब देखना ये होगा कि ऐसे भ्रष्टाचार सचिव के ऊपर कब कार्यवाही होगा ।

error: Content is protected !!